राजकीय जनजातीय हिजला मेला महोत्सव,  दुमका

कस्तूरबा जरमुंडी की बच्चियों ने दिया दहेज न लेने का संदेश

कस्तूरबा जरमुंडी की बच्चियों ने दिया दहेज न लेने का संदेश

कस्तूरबा जरमुंडी की बच्चियों ने दिया दहेज न लेने का संदेश

शानदार अभिनय से मोहा आम दर्शकों का दिल

राजकीय जनजातीय हिजला मेला में झारखंड शिक्षा परियोजना द्वारा लगाया गया स्टाल तथा कस्तूरबा विद्यालय की बच्चियों द्वारा प्रतिदिन विभिन्न सामाजिक कुरीतियों पर चोट करता हुआ नुक्कड़ नाटक बरबस आम मेला घूमने वाले दर्शकों का ध्यान आकर्षित करता है।
सोमवार को कस्तूरबा जरमुंडी की बच्चियों ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ विषयक शानदार नुक्कड़ नाटक से दर्शकों को दहेज प्रथा के प्रति आवाज उठाने का संदेश दिया।,दुल्हन के किरदार में काजल कुमारी, दूल्हा के रुप में लक्ष्मी कुमारी, लड़की की माँ और पिता के रुप में क्रमशः मधु कुमारी तथा सावित्री टुडु,लड़के के माँ और पिता के रुप में पुष्पा कुमारी और पिंकी टुडु और पंडित की भूमिका में श्रीति कुमारी ने अपने शानदार अभिनय से सबको प्रभावित किया।खुशी कुमारी,पल्लवी कुमारी, सोना सोरेन तथा बीना बेसरा ने भी अपने अपने किरदार से रंग जमाया।
नाटक में डांस टीम के रुप में रुबी कुमारी, प्रीति कुमारी, रुकसार खातुन,मनीषा कुमारी, रेखा भारती, काजल कुमारी, तुलसी कुमारी, सीता कुमारी तथा मुस्कान कुमारी ने अच्छा नृत्य किया।
अवसर पर जेंडर समन्वयक मिनी टुडु, शिक्षक मदन कुमार तथा शारीरिक शिक्षिका सुहागनी मरांडी मौजूद थीं।